UPSC syllabus in Hindi Free PDF Download

UPSC IAS Syllabus in Hindi

सिविल सेवा परीक्षालोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा सिविल सेवा की परीक्षा हर साल आयोजित की जाती है। इसके तीन चरण होते है।

  1. पहला चरण
  2. दूसरा चरण
  3. तीसरा चरण
UPSC syllabus

प्रथम चरण - प्रारंभिक परीक्षा (Prelims Exam)

UPSC सिविल सेवा की परीक्षा के पहले चरण में प्रारंभिक परीक्षा (Prelims Exam) आयोजित की जाती है। इसमें 2पेपर होते है। आमतौर पर दोनों ही पेपर एक ही दिन में आयोजित किये जाते है।

सामान्य अध्ययन (GS) पेपर – 1

  • कुल प्रश्न – 100
  • कुल अंक – 200
  • समयावधि – 2 घंटे

CSAT (Civil Services Aptitude Test) पेपर – 2

  • कुल प्रश्न – 80
  • कुल अंक – 200
  • समयावधि – 2 घंटे

UPSC प्रारंभिक परीक्षा (Prelims Exam) से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बाते 

  • प्रारम्भिक परीक्षा में प्रत्येक प्रश्न बहुवैकल्पिक प्रकार के पूछे जायेंगे।
  • प्रत्येक गलत उत्तर के लिए प्रश्न को आवंटित अंको में से 1/3 की कटौती की जायेगी।
  • पेपर – 1 में प्रत्येक प्रश्नों के लिए 2 अंक दिए जाएंगे। गलत उत्तर के लिए कुल अंकों में से 0.66 अंक दंडस्वरूप काटे जाएंगे।
  • पेपर – 2  में प्रत्येक प्रश्नों के लिए 2.5 अंक दिए जाएंगे। गलत उत्तर देने पर कुल अंकों में से 0.8333 अंक दंड के रूप में काटे जाएंगे।
  • पेपर – 2 (CSAT) एक योग्यता (Qualifying) पेपर होता है, जिसमे न्यूनतम योग्यता अंक 33% प्राप्त करने होंगे।
  • मूल्यांकन के उद्देश्य से उम्मीदवार को सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा के दोनों पेपरों में उपस्थित होना अनिवार्य है। उपस्थित न होने की स्थिति में उम्मीदवार को अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा।
  • प्रारंभिक परीक्षा में प्राप्त हुए अंक को अंतिम रैंक सूची के लिए नहीं जोड़ा जाता है।
UPSC परीक्षा का प्रथम चरण
UPSC परीक्षा का प्रथम चरण

दूसरा चरण - मुख्य परीक्षा (Mains Exam)

UPSC सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा के पाठ्यक्रम को समझने के लिए इस को दो भागों में बांट सकते हैं।

अर्हक (Qualifying) पेपर

इसके अंक Merit list के निर्धारण में शामिल नहीं किये जाते है।

  1. पेपर – 1: विषय – सामान्य भाषा (आठवीं अनुसूची में शामिल भारतीय भाषाओं में से उम्मीदवार किसी एक भाषा को चयनित कर सकते हैं।) कुल अंक – 300, समय – 3 घंटे
  2. पेपर – 2: विषय – अंग्रेजी (कुल अंक – 300, समय – 3 घंटे)

रैंक निर्धारण (Merit List) में शामिल किये जाने वाले पेपर

  1. पेपर – 1: विषय – निबंध, कुल अंक – 250, समय – 3 घंटे
  2. पेपर – 2 से 5: विषय – सामान्य अध्ययन (GS) – (4 पेपर) कुल अंक = 4×250 = 1000
  3. पेपर – 6 और 7: विषय – वैकल्पिक(2 पेपर) कुल अंक – 2×250 = 500
UPSC परीक्षा का दूसरा चरण
UPSC परीक्षा का दूसरा चरण

तीसरा चरण - साक्षात्कार (Interview) 275 अंको का होता है

UPSC IAS के लिए मेधा सूचि (Merit List) में शामिल होने वाले पेपर

निबंध – दो निबंध

250 अंक

सामान्य अध्ययन(GS) – 4 पेपर 4 × 250

1000 अंक

वैकल्पिक विषय (2 पेपर) 2 × 250 

500 अंक 

साक्षात्कार 

275 अंक 

कुल

2025 अंक

UPSC IAS परीक्षा के merit listमें शामिल होने वाले पेपर
UPSC IAS परीक्षा के merit list में शामिल होने वाले पेपर

UPSC Prelims Paper- 1 General Study Syllabus in Hindi

कुल प्रश्न- 100 | कुल अंक – 200 | समय – 2 घंटे

  1. समसामयिक घटना – राष्ट्रिय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की वर्तमान घटनाये।
  2. इतिहास – भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन।
  3. भूगोल – भारतीय और विश्व भूगोल – भारत और विश्व का भौतिक, सामाजिक, आर्थिक भूगोल।
  4. भारतीय राज्वाव्यस्था और शासनभारतीय राजनीति और शासन – संबिधान, राजनीतिक प्रणाली, पंचायती राज, सार्वजनिक नीति, अधिकारों के मुद्दे, आदि।
  5. आर्थिक और सामाजिक विकास – आर्थिक और सामाजिक विकास – सतत विकास, गरीबी, समावेशन, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र की पहल आदि।
  6. पर्यावरण – पर्यावरणीय पारिस्थितिकी, जैव विविधता और जलवायु परिवर्तन पर सामान्य मुद्दे – जिनके लिए विषय विशेषज्ञता की आवश्यकता नहीं है।
  7. विज्ञान – सामान्य विज्ञान
UPSC prelims GS syllabus
UPSC prelims GS syllabus

UPSC Prelims Paper- 2 CSAT (Civil Services Aptitude Test) Syllabus in Hindi​

कुल प्रश्न- 80 | कुल अंक – 200 | समय – 2 घंटे

  1. बोधगम्यता परीक्षण (comprehension)
  2. संचार कौशल सहित पारस्परिक क्षमता
  3. तार्किक कौशल और विश्लेषणात्मक क्षमता
  4. निर्णय लेना और समस्या को हल करना
  5. सामान्य मानसिक क्षमता
  6. मूल संख्यात्मकता (संख्याएं और उसके संबंध, परिमाण का क्रम आदि – दसवी कक्षा का स्तर)
  7. डेटा व्याख्या (चार्ट, ग्राफ, तालिकाएँ, आंकड़ो की पर्याप्तता आदि – दसवी कक्षा का स्तर)
UPSC CSAT syllabus
UPSC CSAT syllabus
प्रश्न पत्र विषय समय कुल अंक
पेपर – 1
भाषा (आठवीं अनुसूची में शामिल भारतीय भाषाओं में से उम्मीदवार किसी एक भाषा को चयनित कर सकते हैं।)
3 घंटे
300
पेपर – 2
अंग्रेजी भाषा (अनिवार्य)
3 घंटे
300
पेपर – 3
निबंध (उम्मीदवार अपने पसंद के किसी भाषाई माध्यम में लिख सकते है।
3 घंटे
250
पेपर – 4
सामान्य अध्ययन – 1 (भारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व और समाज का इतिहास और भूगोल)
3 घंटे
250
पेपर – 5
सामान्य अध्ययन – 2 (शासन, संविधान, राजनीति, सामाजिक न्याय और अन्तर्राष्ट्रीय संबन्ध)
3 घंटे
250
पेपर – 6
सामान्य अध्ययन – 3 (प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विविधता, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन)
3 घंटे
250
पेपर – 7
सामान्य अध्ययन – 4 (नैतिकता, सत्यनिष्ठा और योग्यता)
3 घंटे
250
पेपर – 8
वैकल्पिक विषय (प्रश्न पत्र – 1)
3 घंटे
250
पेपर – 9
वैकल्पिक विषय (प्रश्न पत्र – 2)
3 घंटे
250

Mains Syllabus for IAS Exam

भाषायी पेपर में पूछे जाने वाले प्रश्नों की संरचना एवं प्रकार

प्रश्नों के प्रकार अंक
निबंध
100 अंक
रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन
60 अंक
सार लेखन
60 अंक
अंग्रेजी से चयनित भाषा (जैसे हिंदी) में अनुवाद
20 अंक
चयनित भाषा (जैसे हिंदी) से अंग्रेजी में अनुवाद
20 अंक
व्याकरण और भाषा का उपयोग
40 अंक

अंग्रेजी अनिवार्य विषय में पूछे जाने वाले प्रश्नों की संरचन

Type of Questions Marks
Essay-Writing
100 Marks
Reading Comprehension
75 Marks
Precis Writing
75 Marks
Grammar-Based Question
50 Marks

Mains Exam GS Papper-1 Syllabus in Hindi

भारतीय विरासत और संस्कृति विश्व का इतिहास एवं भूगोल तथा समाज।

कला और संस्कृति

  • भारतीय संस्कृति में प्राचीन काल से आधुनिक काल तक के कला के रूप, साहित्य और वास्तुकला। के मुख्य पहलू शामिल होंगे।

इतिहास

  • 18वी शताब्दी के मध्य से लेकर वर्तमान तक आधुनिक भारतीय इतिहास- महत्वपूर्ण घटनाएं, व्यक्तित्व, मुद्दे।
  • स्वतंत्रता संग्राम- इसके विभिन्न चरण और देश के विभिन्न हिस्सों से योगदान देने वाले महत्वपूर्ण व्यक्ति/उनका योगदान।
  • स्वतंत्रता के पश्चात देश के अंदर एकीकरण और पुनर्गठन
  • विश्व के इतिहास में 18 वीं शताब्दी तथा बाद की घटनाएं शामिल होंगे जैसे औद्योगिक क्रांति, विश्व युद्ध, राष्ट्रीय सीमाओं का पुनर्निर्धारण , उपनिवेशवाद, उपनिवेशवाद की समाप्ति, राजनैतिक दर्शन जैसे साम्यवाद, पूँजीवाद, समाजवाद आदि – उनके रूप और समाज पर प्रभाव।

भूगोल

  • विश्व के भौतिक भूगोल की मुख्य विशेषताएं।
  • विश्व के प्रमुख प्राकृतिक संसाधनों का वितरण (दक्षिण एशिया और भारतीय उपमहाद्वीप सहित।)
  • विश्व के विभिन्न हिस्सों (भारत सहित) में प्राथमिक, द्वितीयक और तृतीयक क्षेत्र के उद्योगो को स्थापित करने के लिए जिम्मेदार कारक।
  • भूकंप, सुनामी, ज्वालामुखीय गतिविधि, चक्रवात आदि जैसे महत्वपूर्ण भू-भौतिकीय घटनाएं, भौगोलिक विशेषताएं और उनके स्थान – अति महत्वपूर्ण भौगोलिक विशेषताओं (जलस्रोत और हिमावरण सहित) और वनस्पतियो और जीवों में परिवर्तन और और इस प्रकार के परिवर्तनों का प्रभाव।

भारतीय समाज

  • भारतीय समाज की मुख्य विशेषताएं, भारत की विविधता।
  • महिलाओं की भूमिका और महिला संगठन, जनसंख्या और जनसंख्या संबंधी मुद्दे, गरीबी और विकास के मुद्दे, शहरीकरण, उनकी समस्याएं और उसके उपचार।
  • भारतीय समाज पर वैश्वीकरण का प्रभाव।
  • सामाजिक सशक्तिकरण, सांप्रदायिकता, क्षेत्रवाद और धर्मनिरपेक्षता।
Mains GS paper 1 syllabus
Mains GS paper 1 syllabus

Mains Exam GS Paper-2 Syllabus

शासन व्यवस्था, संविधान व्यवस्था, सामाजिक न्याय तथा अंतरराष्ट्रीय संबंध

भारतीय राजव्यवस्था (संविधान शासन प्रणाली)

  • भारतीय संविधान – ऐतिहासिक आधार, विकास विशेषताएं, संशोधन, महत्वपूर्ण प्रावधान और बुनियादी संरचना।
  • संघ और राज्यों के कार्य और जिम्मेदारियां, संघीय ढांचे से संबंधित मुद्दे और चुनौतियां, स्थानीय स्तर तक शक्तियों और वित्त का हस्तानांतरण और उसकी चुनौतियां।
  • विभिन्न अंगों के बीच शक्तियों का पृथक्करण, विवाद निवारण तंत्र और संस्थान।
  • अन्य देशों के साथ भारतीय संवैधानिक योजना की तुलना।
  • सांसद और राज्य विधानमंडल – संरचना, कार्य संचालन, शक्तियां और विशेषाधिकार और इनमें उत्पन्न होने वाले मुददे।
  • कार्यपालिका और न्यायपालिका की संरचना, संगठन और कार्य – सरकार के मंत्रालय और विभाग, दबाव समूह और औपचारिक/अनौपचारिक संघ और शासन प्रणाली में उनकी भूमिका।
  • जन प्रतिनिधित्व अधिनियम के मुख्य विशेषताएं।
  • विभिन्न संवैधानिक पदों पर नियुक्ति, विभिन्न संवैधानिक निकायों की शक्तियां, कार्य और जिम्मेदारियां।
  • सांविधिक, विनियामक और विभिन्न अर्द्ध-न्यायिक निकाय।

शासन व्यवस्था

  • विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकारी नीतियां और हस्तक्षेप और उनके अभिकल्पन और कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दों।
  • विकास प्रक्रियाए और विकास उद्योग – गैर सरकारी संगठनो, स्वयं सहायता समूहों, विभिन्न समूहों और संघों, दानकर्ताओं, लोकोपकारी संस्थाओं, संस्थागत और अन्य हितधारकों की भूमिका।
  • शासन व्यवस्था, पारदर्शिता और जवाबदेही, ई-गवर्नेंस के महत्वपूर्ण पहलू – अनुप्रयोग, मॉडल, सफलताएं, सीमाएं और क्षमता; नागरिक चार्टर, पारदर्शिता और जवाबदेही और संस्थागत तथा अन्य उपाय।
  • लोकतंत्र में सिविल सेवाओं की भूमिका।

सामाजिक न्याय

  • केंद्र और राज्यों द्वारा आबादी के कमजोर वर्गों के लिए कल्याणकारी योजनाएं और इन योजनाओं का प्रदर्शन; इन कमजोर वर्गों के संरक्षण और बेहतरी के लिए गठित तंत्र, कानून, संसथान और निकाय।
  • स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधन से संबंधित सामाजिक क्षेत्र /सेवाओं के विकास और प्रबंधन से संबंधित मुद्दे।
  • गरीबी और भूख से संबंधित मुद्दे।

अन्तराष्ट्रीय संबंध

  • भारत और उसके पड़ोसी-संबंध
  • द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक समूह और समझौते जिसमे भारत शामिल है और/या भारत के हितों को प्रभावित करता है।
  • विकसित और विकासशील देशों की नीतियों और राजनीति का भारत के हितों पर प्रभाव, भारतीय प्रवासी।
  • महत्वपूर्ण अन्तराष्ट्रीय संस्थान, एजेंसिया और उनकी संरचना, जनादेश।
Mains GS paper 2 syllabus

Mains Exam GS Paper-3 Syllabus

प्रौद्योगिकी, आर्थिक  विकास, जैव विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन भारतीय अर्थव्यवस्था

भारतीय अर्थव्यवस्था

  • भारतीय अर्थव्यवस्था और योजना, संसाधनों को जुटाने, प्रगति, विकास और रोजगार से संबंधित मुद्दे।
  • समावेशी विकास और इससे उत्पन्न होने वाले मुद्दे।
  • सरकारी बजट।
  • देश के विभिन्न हिस्सों में प्रमुख फसल पैटर्न – विभिन्न प्रकार की सिंचाई और सिंचाई प्रणाली, कृषि उपज का भंडारण, परिवहन और विपणन और मुद्दे और संबंधित बाधाएं ; किसानों की सहायता के लिय ई-प्रौद्योगिकी।
  • प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कृषि सब्सिडी और न्यूनतम समर्थन मूल्य से संबंधित मुद्दे; सार्वजनिक वितरण प्रणाली- उद्देश्य, कार्यप्रणाली, सीमाएं , सुधार; बफर स्टॉक और खाद्य सुरक्षा के मुद्दे; प्रौद्योगिकी मिशन; पशु पालन का अर्थशास्त्र।
  • भारत में खाद्य प्रसंस्करण और संबंधित उद्योग- स्कोप और महत्व, स्थान, अपस्ट्रीम और डाउनस्ट्रीम आवश्यकताएं , आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन।
  • भारत में भूमि सुधार।
  • अर्थव्यवस्था पर उदारीकरण के प्रभाव, औद्योगिक नीति में परिवर्तन और औद्योगिक विकास पर उनके प्रभाव।
  • बुनियादी ढांचा: उर्जा, बंदरगाह, सड़के , हवाई अड्डे, रेलवे आदि।
  • निवेश मॉडल।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी

  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी- विकास और रोजमर्रा की जिंदगी में उनके अनुप्रयोग और प्रभाव।
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी में भारतीयों की उपलब्धियां; प्रौद्योगिकी का स्वदेशीकरण और नई तकनीक विकसित करना।
  • आईटी, अंतरिक्ष, कंप्यूटर, रोबोटिक्स, नैनो-प्रौद्योगिकी, जैव-प्रौद्योगिकी और बौद्धिक संपदा अधिकारों से संबंधित मुद्दों के क्षेत्र में जागरूकता।

आंतरिक सुरक्षा

  • विकास और उग्रवाद के प्रसार के बीच संबंध।
  • आंतरिक सुरक्षा के लिए चुनौतियां पैदा करने में बाहरी राज्य और गैर-राज्य अभिनेताओं की भूमिका।
  • संचार नेटवर्क के माध्यम से आंतरिक सुरक्षा के लिए चुनौतियां, आंतरिक सुरक्षा चुनौतियों में मीडिया और सोशल नेटवर्किंग साइटों की भूमिका, साइबर सुरक्षा की मूल बातें; मनी लॉन्ड्रिंग और इसकी रोकथाम।
  • सीमावर्ती क्षेत्र में सुरक्षा चुनौतियां और उनका प्रबंधन – आतंकवाद के साथ संगठित अपराध का संबंध।
  • विभिन्न सुरक्षा बल और एजेंसियां और उनका जनादेश।

पर्यावरण

  • संरक्षण, पर्यावरण प्रदूषण और क्षरण, पर्यावरण प्रभाव मूल्यांकन।

आपदा प्रबंधन

  • आपदा और आपदा प्रबंधन
Mains GS paper 3 Syllabus
Mains GS paper 3 Syllabus

Mains Exam GS Paper-4 Syllabus

नीतिशास्त्र, सत्यनिष्ठा और अभिवृत्ति

इस पेपर में सार्वजनिक जीवन में ईमानदारी और समाज से निपटने में उनके सामने आने वाले विभिन्न मुद्दों और संघर्षषों के लिए उनके समस्या सुलझाने के दृष्टिकोण से संबंधित मुद्दों के लिए उम्मीदवारों के दृष्टिकोण और दृष्टिकोण का परीक्षण करने के लिए प्रश्न शामिल होंगे। प्रश्न इन पहलुओं को निर्धारित करने के लिए केस स्टडी दृष्टिकोण का उपयोग कर सकते है। मुख्य रूप से निम्नलिखित क्षेत्रों को कवर किया जाएगा।

  • नैतिकता और मानवीय सह-संबंध- मानव कार्यो में नैतिकता का सार, निर्धारक और परिणाम; नैतिकता के आयाम; नैतिकता – निजी और सार्वजनिक संबंधों में। मानव मूल्य – महान नेताओं, सुधारकों और प्रशासकों के जीवन और शिक्षाओं से सबक; मूल्यों को विकसित करने में परिवार समाज और शैक्षिक संस्थानों की भूमिका।
  • सिविल सेवा के लिए योग्यता और बुनियादी मूल्य- अखंडता, निष्पक्षता और गैर-पक्षपात, निष्पक्षता, सार्वजनिक सेवा के प्रति समर्पण, कमजोर वर्गों के प्रति सहानुभूति, सहिष्णुता और करुणा।
  • अभिवृति- सामग्री, संरचना, कार्य; विचार और व्यवहार के साथ इसका प्रभाव और संबंध; नैतिक और राजनीतिक दृष्टिकोण; सामाजिक प्रभाव और अनुनय।
  • भावनात्मक समझ- अवधारणाएं , और प्रशासन और शासन में उनकी उपयोगिताओं और अनुप्रयोग।
  • भारत और दुनिया के नैतिक विचारकों और दार्शनिको का योगदान।
  • लोक प्रशासन में सार्वजनिक/सिविल सेवा मूल्य और नैतिकता- स्थिति और समस्याएं ; सरकारी और निजी संस्थानों में नैतिक चिंताएं और दुविधाएं ; नैतिक मार्गदर्शन के स्रोतों के रूप में कानून, नियम, विनियम और विवेक; जवाबदेही और नैतिक शासन; शासन में नैतिक और नैतिक मूल्यों को मजबूत करना; अन्तराष्ट्रीय संबंधों और वित्त पोषण में नैतिक मुद्दे; कॉर्पोरेट प्रशासन।
  • शासन में ईमानदारी: सार्वजनिक सेवा की अवधारणा; शासन और ईमानदारी का दार्शनिक आधार; सरकार में सूचना साझा करना और पारदर्शिता, सूचना का अधिकार, आचार संहिता, नागरिक चार्टर, कार्य संस्कृति, सेवा वितरण की गुणवत्ता, सार्वजनिक धन का उपयोग, भ्रष्टाचार की चुनौतियां।

उपरोक्त मुद्दों पर केस स्टडी

Mains GS paper 4 syllabus
Mains GS paper 4 syllabus

UPSC Optional Subject List

ग्रुप – 1

  1. कृषि विज्ञान
  2. पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विज्ञान
  3. नृविज्ञान
  4. वनस्पति विज्ञान
  5. रसायन विज्ञान
  6. सिविल इंजीनियरी
  7. वाणिज्य शास्त्र तथा लेखा विधि
  8. अर्थशास्त्र
  9. विधुत इंजीनियरी
  10. भूगोल
  11. भू-विज्ञान
  12. इतिहास
  13. विधि
  14. प्रबंधन
  15. गणित
  16. यांत्रिक इंजीनियरी
  17. चिकित्सा विज्ञान
  18. दर्शन शास्त्र
  19. भौतिकी
  20. राजनीति विज्ञान तथा अन्तराष्ट्रीय संबन्ध
  21. मनोविज्ञान
  22. लोक प्रशासन
  23. समाज शास्त्र
  24. सांख्यिकी
  25. प्राणी विज्ञान

ग्रुप – 2

  1. कश्मीरी
  2. सिंधी
  3. पंजाबी
  4. हिंदी
  5. बंगाली
  6. असमिया
  7. उड़िया
  8. गुजराती
  9. मराठी
  10. कन्नड़
  11. तेलुगू
  12. तमिल
  13. मलयालम
  14. उर्दू
  15. संस्कृत
  16. नेपाली
  17. मणिपुरी
  18. कोंकणी
  19. बोडो
  20. डोगरी
  21. मैथिली
  22. संथाली
  23. अंग्रेजी

पिछले कुछ वर्षो में प्रारंभिक परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों की भरिता

UPSC questions asked in previous years in Prelims Exam
पिछले कुछ वर्षो में प्रारंभिक परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों की भरिता

UPSC के लिए अधिकतम आयु एवं प्रयासों को संख्या

  • सामान्य श्रेणी के लिए – 32 वर्ष, 6 प्रयास
  • अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) –  35 वर्ष, 9 प्रयास
  • अनुसूचित जाति/जनजाति – 37 वर्ष, असीमित प्रयास
  • विकलांग (PH) – सामान्य – 42 वर्ष, 9 प्रयास
  • विकलांग (PH) – अन्य श्रेणी – 42 वर्ष, श्रेणी के अनुसार प्रयास
Maximum attempt for UPSC IAS exam
Maximum attempt for UPSC IAS exam

UPSC सिविल सेवा की परीक्षा निन्मलिखित पदों के लिए आयोजित की जाती है

  • भारतीय प्रशासनिक सेवा
  • भारतीय विदेश सेवा
  • भारतीय पुलिस सेवा
  • भारतीय लेखा परीक्षा और लेखा सेवा, ग्रुप ‘क’
  • भारतीय सिविल लेखा सेवा, ग्रुप ‘क’
  • भारतीय कॉर्पोरेट विधि सेवा, ग्रुप ‘क’
  • भारतीय रक्षा सेवा, ग्रुप ‘क’
  • भारतीय रक्षा संपदा सेवा, ग्रुप ‘क’
  • भारतीय सूचना सेवा (कनिष्ठ ग्रेड), ग्रुप ‘क’
  • भारतीय डाक सेवा, ग्रुप ‘क’
  • भारतीय डाक तार लेखा और वित्तीय सेवा, ग्रुप ‘क’
  • भारतीय रेलवे सुरक्षा बल सेवा, ग्रुप ‘क’
  • भारतीय राजस्व (सीमा शुल्क और केंद्रीय उत्पाद शुल्क), ग्रुप ‘क’
  • भारतीय राजस्व सेवा (आयकर), ग्रुप ‘क’
  • भारतीय व्यापार सेवा, ग्रुप ‘क’ (ग्रेड-3)
  • भारतीय सेना मुख्यालय सिविल सेवा, ग्रुप ‘ख’ (अनुभाग अधिकारी ग्रेड)
  • दिल्ली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, लक्षद्वीप, दमन और दीव तथा दादरा और नगर हवेली सिविल सेवा, ग्रुप ‘ख’
  • दिल्ली, अंडमान व निकोबार द्वीप समूह, लक्षद्वीप, दमन और दीव तथा दादरा और नगर हवेली पुलिस सेवा, ग्रुप ‘ख’
  • पांडिचेरी सिविल सेवा, ग्रुप ‘ख’

UPSC IAS (Pre+Mains) Syllabus PDF Download

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 4 / 5. Vote count: 1

No votes so far! Be the first to rate this post.

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

Search

Join Our Social Media

Enable Notifications OK No thanks